नीतीश कुमार
फाेटो साभार- गुगल

बिहार:- महागठबंधन तोड़कर वापस  भाजपा के साथ गठबंधन करकेे नई सरकार बनाने के बाद भी नीतीश कुमार की परेशानियां कम नहीं हुई है। बल्कि नई सरकार बनाने के बाद अब उनकी मुसीबत और बढ़ गयी हेै।  विपक्ष उनके खिलाफ़ इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन करना चालू कर दिया है।

क्यों हो रही इस्तीफ़े की मांग..?

दरअसल एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने अपनी एक रिपोर्ट जारी किया है जिसके मुताबिक नीतीश कुमार की अगुवाई में बनी बिहार की नई सरकार के 75 फीसदी से ज्यादा मंत्रियों के खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। जबकि पिछली महागठबंधन सरकार में ये संख्या कम थी। यही वजह है कि रिपोर्ट आने के बाद विपक्ष नीतीश कुमार से इस्तीफ़े की मांग कर रहा हेै।

क्या है रिपोर्ट में :- 

रिपोर्ट के अनुसार जेडीयू + भाजपा + एलजेपी की सरकार में 29 में से 22 मंत्री ऐसे हैं जिनके खिलाफ़ आपराधिक मामलें दर्ज है। वहीं पिछली सरकार में ये आंकड़े 28 में से 19 मंत्री के खिलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज थे।
बता दें की बिहार एलेक्शन वॉच और एडीआर की ओर से मुख्यमंत्री सहित 29 मंत्रियों के चुनावी हलफनामे के विश्लेषण के बाद यह रिपोर्ट तैयार की गई. (ये भी पढ़ें:- सरेआम अपनी हार स्वीकार कर रहें हैं नीतीश! जान कर हैरान हो जायेंगे आप)

 

  • रिपोर्ट के मुताबिक नीतीश कुमार की अगुवाई वाली मौजूद सरकार के जिन 22 मंत्रियों अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, उनमें नौ के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. और वहीं शैक्षणिक योग्यता में 9 ऐसे मंत्री है जो 8वीं पास से लेकर 12वीं पास तक है, जबकि 18 मंत्री ग्रेजुएट या इससे ऊंची डिग्री वाले हैं. ( ये भी पढ़ें:- पं. नेहरु की वायरल हुई तस्वीर का सच आया सामने, पढ़कर आप भी रह जाएंगे दंग !)

कैबिनेट में महिलाएं:-

नई सरकार ने अपने  कैबिनेट में सिर्फ एक ही महिला को जगह दी है, जबकि पिछली सरकार ने कैबिनेट में 2 महिलाओं को स्थान मिला था।
इसी रिपोर्ट को लेकर राजद ने इस्तीफा माँगा है, उनका कहना है कि, ” राज्य एक तरफ होता है और अपराधी एक तरफ. अपराधी होने के कारण नीतीश राज्य का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते. नैतिकता के आधार उन्हें इस्तीफ़ा देना चाहिए।”