Lipstick
लाइफ स्टाइल-  Lipstick लड़कियां चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा लिपस्टिक का प्रयोग करती हैं। उनके मेकअप में सबसे अहम हिस्सा लिपस्टिक का ही होता है। लेकिन ज्यादा लिपस्टिक लगाना कितना खतरनाक होता है ये शायद उन्हें इस बात की खबर भी नहीं होगी। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि ज्यादा लिपस्टिक लगाने से क्या होता है।
दरअसल University of California at Berkeley के वैज्ञानिकों ने 32 तरह के ब्रांड की लिपस्टिक पर गहन अध्ययन किया। जो सभी ड्रगस्टोर, किराना स्टोर और स्पेशलिटी मेकअप आउटलेट्स में पाई जाती है। 

 लिपस्टिक वैज्ञानिकों ने किया अध्ययन

इस अध्ययन में ये पाया गया कि इन प्रोडक्टस में कई तरह के हानिकारक केमिकल पाए जाते हैं जिनमें सीसा, कैडमियम, एल्यूमीनियम और क्रोमियम शामिल है। जो कि महिलाओं के लिए बहुत ही खतरनाक हो सकते हैं। इसके अलावा इन केमिकल्स के स्वास्थ्य पर कई तरह के खतरनाक असर पड़ते हैं। शोधकर्ताओं ने वर्तमान में 14 से 19 साल की लड़कियों के बीच आमतौर पर काम में लिए जाने लिपस्टिक प्रोडक्टस का टेस्ट किया।
वैज्ञानिकों ने कहा कि लिपस्टिक में पाए जाने वाले मेटल बहुत ही जरूरी मुद्दा नहीं है जो कि नुकसानदायक हो लेकिन इन मेटल में जो जहरीले केमिकल्स पाए जाते हैं वो संभवतः लंबे समय तक स्वास्थ्य पर प्रभाव डाल सकते हैं। एक महिला औसतन एक दिन में 2 से 3 बार लिपस्टिक का उपयोग करती है। जिससे कि वो प्रत्येक दिन में 24 मिलीग्राम तक केमिकल अपने होठ पर लगा लेती है। हालांकि, इनमें पाए जाने वाले केमिकल्स के लंबे समय तक उपयोग करने से भारी मात्रा में न्यूरोलॉजिकल नुकसान हो सकता है। तथा कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती है।
हालांकि वैज्ञानिकों ने अध्ययन में लिपस्टिक के ब्रांडों का खुलासा नहीं किया, लेकिन उन्होंने यह कहा था कि नुकसानदायक केमिकल्स जिनमें पाए जाते हैं वे लोकप्रिय मेक-अप कंपनियों में से भी है। अध्ययन में यह भी पाया गया कि लिपस्टिक के कई तरह के रंग में आने के कारण कुछ खास नुकसान नहीं होता है। एफडीए का कहना है कि सौंदर्य प्रसाधनों के सामानों में सीसे को एफडीए द्वारा निर्धारित नहीं किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here