क्या आपने देखी है हनुमान जी असली तस्वीर? पढ़िये इस रहस्यमय घटना को

2
1079
हनुमान
PC- Google

आखिर कैसे दिखते हैं महाबली हनुमान? क्या वैसे जैसे टीवी शोज़ में दिखाया जाता है?  या फिर राम भक्त हनुमान कुछ ऐसे दिखते हैं जो उनके टीवी शोज में दिखाई गयी तस्वीर से बिलकुल ही अलग हो?  हनुमान की एक तस्वीर आयी है जिसमें वे ग्रन्थ पढ़ते हुए दिख रहे है. यह ग्रन्थ कोई और नहीं बल्कि रामायण है.

इस तस्वीर से जुड़ी एक पाक-कहानी है जो कुछ इस प्रकार है.

दरअसल बात शुरू होती है तीन लोगों के मानसरोवर की यात्रा से. इन्हीं तीन लोगों में से एक हनुमान के बहुत बड़े भक्त थे. मानसरोवर यात्रा का उद्देश्य ही राम भक्त हनुमान की खोज थी. कहते हैं हनुमान को चिरंजीवी होने का वरदान मिला है. चिरंजीवी यानी वो जो इस धरती पर अमर है.

हनुमान को चिरंजीवी होने का वरदान माता सीता ने दिया था ताकि इस धरती के अंत तक सम्पूर्ण धरती राम नाम से गूंजें. इसी वरदान के कारण आज भी धरती पर हनुमान के अंश मिलते हैं. आखिर कैसे दिखते होंगे महाबली हनुमान, इसी सवाल का जवाब लेने के लिए मानसरोवर की ओर निकल परे थे ये तीन दोस्त.

( ये भी पढ़ें:- जो कपिल शर्मा ने कभी सोचा नहीं, अब वही काम करना पड़ रहा)

कई दिनों की यात्रा के बाद आज वो मानसरोवर तालाब के पास थे. तभी उनमें में किसी एक ने एक लंगूर सी आकृति को बड़ी तेजी से हिमालय के पहाड़ों की तरफ जाते देखा. उन्हें एहसास हो गया था कि वो आकृति महाबली हनुमान की है. इस आकृति ने मानों उनकी मानसरोवर यात्रा में जान ही भर दी हो, फिर शुरू हुई पहाड़ों और गुफाओं में हनुमान को ढूंढने की यात्रा.

(ये भी पढ़ें:- सीएजी की रिपोर्ट ने खोली सरकार की पोल, किये कई चौकाने वाले खुलासे !)

तीनों दोस्त में से एक हनुमान का बहुत बड़ा भक्त था. हनुमान को गुफाओं में ढूंढने के क्रम में इस हनुमान भक्त को एक गुफा से आती हुई तेज रोशनी दिखी. वो रोशनी का पीछा करते हुए गुफा में पंहुचा. यह रोशनी कुछ और नहीं बल्कि हनुमान की तेज़ थी. उस भक्त ने तुरंत ही हनुमान की फोटो को कैमरे में कैद कर लिया. कहते हैं, तुरंत ही उस लड़के की मृत्यु हो गयी.मौत काफी रहस्मयी थी. डॉक्टरों ने भी मृत्यु का कोई कारण नहीं बताया  बाद में, हनुमान की फोटो को उसके दोस्तों ने कैमरे के रोल से निकलवाया.

(सोर्स- स्पीकिंग ट्री)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here